साँपों का सीढ़ी खेल

सीढ़ी यदि साथ
भाषण की हो
राशन की हो
कालेधन की हो,
सीढ़ी यदि साथ
धर्मजाति की हो
खापपंचायति की हो
स्वगोति की हो,
सीढ़ी यदि साथ
झूठे वादों की हो
मिथ्या संवादों की हो
सियाह इरादों की हो,
सीढ़ी यदि साथ
बाहुबल की हो
मदिरा बोतल की हो
साडी कम्बल की हो,
दूसरों की पूँछ पकड़ कर
पराये कंधो पर चड कर
सबसे आगे बड कर
सफलता की मंजिल पा लोगे,
नाव चाहे सबकी डूबे
तुम साहिल पा लोगे.

Advertisements

दुनियादार होने तक

खरीदओफरोख्त के गुनाहगार हो गए
बिकाऊ दोर में हम भी बाजार हो गये

जलते घरों का भी पानी चुरा लाते है
शहर वाले सच में दुनियादार हो गये

चढे दिन की बड़ी खबर बने थे लोग
शाम ढले तक बासी अखबार हो गए

गुनाहे इश्क के कसूरवार लेला मजनू
आज भी चोपाल पर संगसार हो गए

कल तक आपको बहोत प्यारे थे हम
ऐसा क्या हुआ आज बेएतबार हो गए

बेरोजगारी तूने बहोत आराम है दिया
अपने तो सातो दिन रविवार हो गए

ज़मीर बेच कर इन दिनों मज़े में हैं
आलम भाई वाकई दुनियादार हो गए

खरीदओफरोख्त- क्रय-विक्रय, संगसार-पथराव
ज़मीर-अंतरात्मा